Saturday, August 14, 2010

जिन्ना को उनका पाकिस्तान मिला नेहरु को हिन्दुस्तान

क्या नहीं सोचा था 
नेहरु और जिन्ना ने
कि ये कीमत चुकानी होगी 
आज़ादी और विभाजन की,

नालियों में बह रहा 
बेकसूरों का रक्त था
और वो बेकसूर नहीं जानते थे 
कि सरहद किसे कहते हैं
और आज़ादी क्या है,

वो नहीं जानते थे 
नेहरु और जिन्ना को,

वो तो मार दिए गए
हिन्दू और मुसलमान होने के 
अपराध में,

मरने से पहले देखे थे उन्होंने
अपनी औरतों के स्तन कटते हुए
अपने जिंदा बच्चों को 
गोस्त कि तरह आग में पकते हुए,

दुधमुहे बच्चे
अपनी मरी हुई माँ की 
कटी हुई छातियों से बहते रक्त को 
सहमे हुए देख रहे थे 
और उसकी बाहों को 
इस उम्मीद में खींच रहे थे 
कि बस अब वो उसे गोद में उठा लेगी, 

माएँ अपनी जवान बेटियों के
गले घोट रही थी 
उन्हें बलात्कार से बचाने के लिए,

बेरहमी कि हदों को तोड़कर 
इंसानियत को रौंदा गया,

पर एक सवाल आज भी 
अपनी जगह कायम है
कि इस भीषण त्रासदी का 
ज़िम्मेदार कौन???

जिन्ना को 
उनका पाकिस्तान मिला
नेहरु को 
हिन्दुस्तान,

परन्तु बाकी बचे 
चालीस करोड़ लोगों को
क्या मिला???

टुकड़ों में बंटा
लहुलुहान हिन्दुस्तान!!!

8 comments:

M VERMA said...

परन्तु बाकी बचे
चालीस करोड़ लोगों को
क्या मिला???


टुकड़ों में बंटा
लहुलुहान हिन्दुस्तान!!!

बाँट लिया जो वो लेना चाहते थे
जी हाँ वही मिला जो वो देना चाहते थे.

Virendra Singh Chauhan said...

VAH....KAY BAAT HAI.

आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई।
जय हिंद...जय भारत

वन्दना अवस्थी दुबे said...

स्वाधीनता दिवस पर हार्दिक शुभकामानाएं.

Babli said...

*********--,_
********['****'*********\*******`''|
*********|*********,]
**********`._******].
************|***************__/*******-'*********,'**********,'
*******_/'**********\*********************,....__
**|--''**************'-;__********|\*****_/******.,'
***\**********************`--.__,'_*'----*****,-'
***`\*****************************\`-'\__****,|
,--;_/*******HAPPY INDEPENDENCE*_/*****.|*,/
\__************** DAY **********'|****_/**_/*
**._/**_-,*************************_|***
**\___/*_/************************,_/
*******|**********************_/
*******|********************,/
*******\********************/
********|**************/.-'
*********\***********_/
**********|*********/
***********|********|
******.****|********|
******;*****\*******/
******'******|*****|
*************\****_|
**************\_,/

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आप एवं आपके परिवार का हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ !

ज्योति सिंह said...

आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई।
जय हिंद...जय भारत

Neelu said...

आप बहुत ही सुन्दर लिखते हैं ! स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक
शुभकामनायें ! जय हिंद !

किलर झपाटा said...

माथुर साहब,
नेहरू-जिन्ना ने देश काल परिस्थितियों के अनुसार निर्णय लिया होगा। उन्होंने ऊँचे ही ख़ाब देखें होंगे वतन की बेहतरी के लिए। यह तो लोगों की जहालत थी जिसने हैवानियत की तमाम हदें पार कर दीं। यह सब गुज़रे ज़मानों में भी हुआ। अब भी हो रहा है।
रोज़ प्रार्थना के वक्त ऊपर वाले से कुछ देर इस बात के लिए लड़ना भी चाहिए के वो हमें वीडियो गेम समझ कर क्यों खेलता है इस तरह ? जबके दुनिया का हर हाल उसकी ही मर्ज़ी है। आपका ब्लॉग हमें भी अच्छा लगा। धन्यवाद। जय हिन्द।

हरकीरत ' हीर' said...

पर एक सवाल आज भी
अपनी जगह कायम है
कि इस भीषण त्रासदी का
ज़िम्मेदार कौन???

जिन्ना को
उनका पाकिस्तान मिला
नेहरु को
हिन्दुस्तान,

परन्तु बाकी बचे
चालीस करोड़ लोगों को
क्या मिला???

टुकड़ों में बंटा
लहुलुहान हिन्दुस्तान!!!

सवाल वाजिब है .....
बेहद बीभत्स और दर्दनाक दृश्य थे वे ...जब पकिस्तान बना ..
पापा बताया करते थे ....एक पूरी की पूरी ट्रेन कटी हुई लाशों की आई थी लाहौर से ..
और फी इधर तबाही मच गयी थी ......ओह ......!!

Post a Comment

 
Copyright © वन्दे मातरम्. All rights reserved.
Blogger template created by Templates Block | Start My Salary
Designed by Santhosh
चिट्ठाजगत